ईरानी जहाज में घुसे 9 समुद्री लुटेरे, भारतीय नौसेना ने दिखाया पराक्रम; इस तरह से चलाया ऑपरेशन

भारतीय नौसेना ने चलाया ऑपरेशन।- India TV Hindi

Image Source : INDIA TV
भारतीय नौसेना ने चलाया ऑपरेशन।

नई दिल्ली: एक बार फिर से भारतीय नौसेना के जवानों की जांबाजी देखने को मिली है। भारतीय नौसेना ने एक बार फिर अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। दरअसल, भारतीय नौसेना ने ईरान के एक पोत को अगवा करने वाले लुटेरों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया। भारतीय नौसेना के अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी है। अधिकारियों ने बताया कि ईरान के जहाज अल-कंबर 786 को समुद्री लुटेरो ने 28 मार्च को अगवा करने का प्रयास किया था। इसकी सूचना मिलते ही भारतीय नौसेना भी सक्रिय हो गई। उन्होंने बताया कि अरब सागर में तैनात भारतीय नौसेना के जहाजों को ईरानी जहाज की मदद के लिए भेजा गया है। 

ईरानी जहाज पर लुटेरों ने किया हमला

भारतीय नौसेना ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए कहा कि वह बंधक बनाए गए मछली पकड़ने वाले ईरान के पोत और उसके चालक दल के सदस्यों को बचाने के अभियान में लगी हुई है। ईरान के इस पोत पर कथित तौर पर 9 सशस्त्र समुद्री लुटेरे सवार हो गए हैं। नौसेना के प्रवक्ता द्वारा साझा किए गए एक आधिकारिक बयान के अनुसार गुरुवार की देर शाम मछली पकड़ने वाले ईरान के जहाज ‘अल कंबर 786’ पर ‘‘संभावित समुद्री लुटेरों के हमले की घटना’’ के बारे में सूचना मिली थी। इसके बाद दो भारतीय नौसैनिक जहाजों को समुद्री सुरक्षा अभियानों के लिए अरब सागर में तैनात किया गया। 

मदद के लिए नौसेना ने चलाया अभियान

आगे बताया गया कि घटना के समय मछली पकड़ने वाला ईरान का पोत सोकोट्रा से लगभग 90 समुद्री मील (एनएम) दक्षिण पश्चिम में था। इसके साथ ही यह भी बताया गया है कि नौ सशस्त्र समुद्री लुटेरे उस पर सवार थे। भारतीय नौसेना ने अपने बयान में कहा है कि अपहृत ईरानी पोत और उसके चालक दल के सदस्यों को बचाने के लिए भारतीय नौसेना द्वारा अभियान अभी भी जारी है। भारतीय नौसेना ने कहा कि क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा और राष्ट्रीयताओं के बावजूद नाविकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भारतीय नौसेना प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें- 

रामेश्वरम कैफे विस्फोट मामले में NIA ने जारी की आरोपियों की फोटो, 10-10 लाख का रखा इनाम

भारी मिस्टेक हो गया! ठीक से नहीं सिले महिला के कपड़े, अब 5000 रुपये का भरना पड़ेगा जुर्माना

Latest India News

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *