ओवैसी के होने से चुनावों का ध्रुवीकरण होता है, इससे मोदी को फायदा होता है? ‘आप की अदालत’ में किया खुलासा

asaduddin owaisi- India TV Hindi

Image Source : INDIA TV
असदुद्दीन ओवैसी

इंडिया टीवी के चर्चित शो ‘आप की अदालत’ में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पहुंचे। इस दौरान उनका सामना हुआ India TV के एडिटर इन चीफ रजत शर्मा के तीखे सवालों से। रजत शर्मा ने उनसे कई मुद्दों पर सवाल पूछे, जिसका ओवैसी ने खुलकर जवाब दिया। ओवैसी ने कहा कि अगर भारत के 17 करोड़ मुसलमानों को तरक्की करनी है तो उनके पास अपना सियासी नेतृत्व होना चाहिए।

मौलाना अरशद मदनी के बयान पर क्या बोले ओवैसी?

जब रजत शर्मा ने कहा कि जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी ने कहा है कि ओवैसी के होने से चुनावों का ध्रुवीकरण होता है और इससे मोदी को फायदा होता है, तो AIMIM सुप्रीमो ने जवाब दिया, ‘मैं आपको बता रहा हूं जब आपने बात छेड़ दी है। मैं पहले कभी नहीं कहा था, यह बात आज कह रहा हूं कि मेरे पास हैदराबाद में यूपी के चुनाव से पहले दो बड़े-बड़े मुफ्ती आए थे। वे आकर बोले कि हम एक बड़े मौलाना का पैगाम आप तक लाए हैं और उनका यह बोलना है कि आप इलेक्शन से किनारे हो जाइए। तो मैंने कहा देखिए भाई, मैं तो बीच समंदर में तैर रहा हूं, अब तो मैं किनारा कर ही नहीं सकता। मैंने कहा कि हम समाजवादी पार्टी को सपोर्ट करेंगे, मुझसे उनका अलायंस करा लीजिए। मैंने उन 10 सीटों की डिमांड की जहां समाजवादी पार्टी का कोई विधायक न हो। दोनों बड़े खुश हो गए। मुफ्ती बोले, अरे वाह साहब! अल्लाह अच्छा रखे आपको, बिस्मिल्लाह करिए। वे मुझे दुआ देकर चले गए और बोले कि मौलाना बड़े खुश हुए हैं और कहा है कि कोशिश करेंगे। वह कोशिश चल रही है अभी तक।’

जब RJD सासंद ने पूछा, क्या शौक है हैदराबाद से आकर बिहार लड़ने का?

बिहार चुनावों पर बात करते हुए ओवैसी ने कहा, ”मैं बिहार के चुनाव में भी तैयार था। मैं RJD के दो राज्यसभा सांसदों से पुरानी पार्लियामेंट बिल्डिंग के सेंट्रल हॉल में जाकर मिला। मैंने उनसे कहा कि सर देखिए, हम लोकसभा का चुनाव लड़े और हमें 3 लाख वोट मिले। आप सीमांचल में 5 सीट दे दीजिए, सिर्फ 5। एक तो मुस्कुराते रहे। एक बड़े पढ़े-लिखे आदमी हैं, उन्होंने कहा चाय पीजिए, कॉफी पीजिए। दूसरे ने कहा कि आपको क्या शौक है हैदराबाद से आकर बिहार लड़ने का। मैंने कहा कि मुझे जम्हूरियत पर भरोसा है और हैदराबाद भारत का हिस्सा है। मैंने तो बिहार में अपनी पार्टी के चीफ अख्तरुल ईमान को पटना जाकर उनके नेताओं से मिलने को कहा, लेकिन कोई तैयार नहीं था। तो इसमें मेरी गलती कहां पर है? अगर ओवैसी से हो रहा है तो क्या मोदी 306 सीट मेरी जीत रहे हैं?”

Latest India News

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *